श्री त्रिमूर्तिधाम बालाजी हनुमान मंदिर

श्री प्रेतराज सरकार

श्री बाला जी हनुमान जी के महामन्त्री जिनका विग्रह दिव्य है। श्री हनुमान जी ने जब लंका दहन की उस समय ऋषि नीलासुर ने जो दसकन्धर रावण की सेवा में थे अपनी मायावी विद्या से उसे रोकने की बहुत चेष्टा की, किन्तु अग्नि शान्त होने की अपेक्षा अधिक प्रज्जवलित होती गई। क्योंकि:- 

उस समय ‘हरि प्रेरित तेहि अवसर चले मरुत उनचास’ (राम चरित्त मानस सुन्दर काण्ड दोहा 25) 

अतएव श्री हनुमान जी की यह अदभुत लीला देखकर ऋषि नीलासुर जान गए कि श्री हनुमान जी कोई दिव्य देहधारी हैं और उनके सामने हाथ जोड़कर खड़े हो गए और उनसे पूछा कि आप कृपया अपना परिचय मुझे दीजिए कहीं आप साक्षात् श्री विष्णु, ब्रह्मा व शिव में से कोई एक तो नहीं?  

श्री हनुमान जी ने स्मित मुस्कान लिए उनकी ओर देखा और कहा- ऋषिवर, मैं न तो हरि हूँ न ब्रह्मा। मैं तो श्री राम जी का सेवक हूँ जो स्वयं नारायणावतार हैं उन्हीं की कृपा मुझ पर है जो मेरी लूम में प्रज्जवलित अग्नि भी मुझे कोई दाह प्रदान नहीं कर रही है और आपकी मायावी शक्ति भी उस अग्नि को बुझा नहीं पा रही है- इसलिए आप भी रावण को कहें कि वह श्री राम जी की शरण ग्रहण कर ले। 

इस पर ऋषि नीलासुर ने श्री हनुमान जी से उन्हें भी श्री राम जी की शरण में ले जाने की प्रार्थना की जिसे श्री हनुमान जी ने लंका युद्ध के पश्चात पूरा किया। उपरान्त जब श्री राम जी ने सरयू में गमन करने से पूर्व श्री हनुमान जी को धरा धाम पर रहकर भक्तों का कल्याण करने का आदेश दिया, तब श्री हनुमान जी ने भी ऋषि नीलासुर को अपना महामन्त्री घोषित करते हुए आकाश गामी सूक्ष्म शक्तियों का आधिपत्य  करने को कहा और उन्हें प्रेतराज सरकार की उपाधि से विभूषित कर दिया। तब से ऋषि नीलासुर को प्रेतराज सरकार कह कर जाना जाता है। 

श्री त्रिमूर्तिधाम में भी बैठकर वे सबके सब तरह के संकट निवारण करते हैं व मनोरथ पूर्ण करते हैं।

श्री प्रेतराज जी चालीसा

श्री प्रेतराज जी प्रार्थना

श्री प्रेतराज जी की आरती

आगामी मुख्य कार्यक्रम

पर्व:- श्री संस्थापना पर्व (मढ़ावाला)

अक्टूबर
बुधवार
4
श्री सुन्दरकाण्ड सामूहिक पाठ संगव 10 बजे।
श्री पताकारोपण मध्यान 12 बजे।
श्री भण्डारा प्रारम्भ मध्यान 12:30 बजे

पर्व:- श्री हनुमान जयन्ती

अक्टूबर
मंगलवार
17
श्री हनुमान जयंती || श्री धनवंतरी जयन्ती || धनत्रयोदशी || धनतेरस || यम प्रीत्यर्थ दीपदान
17-10-2017
श्री राम चरित्र मानस पाठ प्रारम्भ प्रातः 9 बजे।
18-10-2017
श्री सुन्दरकाण्ड सामूहिक पाठ संगव 10 बजे।
श्री पताकारोपण मध्यान 12 बजे।
मध्यान 12:30 बजे से भण्डारा है।
श्री सहस्त्र दीपदान रात्रि 7 बजे।

मुख्य समाचार

पर्व:- श्री प्रेतराज जयन्ती

03 फरवरी 2017

पर्व श्री प्रेतराज जयन्ती, श्री त्रिमूर्तिधाम में 2 फरवरी को बड़ी हर्षोलास के साथ मनाया गया। 


Download our Android AppDownload our Calendar in PDF for OfflineSubscribe to our Google Calendar for Complete Hindi Samvat CalendarClick here and feel to write us