रे मन विवशता तो तेरी कायरता का रूप है जो एंद्रियसुख लिप्सा के कारण ही है।

Audio Gallery




The website is best viewed in Mozilla Firefox and Google Chrome