श्री त्रिमूर्तिधाम बालाजी हनुमान मंदिर

श्री हनुमान जी की आरती

आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्टदलन रघुनाथ कला की॥

जाके बल से गिरिवर काँपै। रोगदोष जाके निकट न झाँपै॥

अंजनि पुत्र महा बलदाई। सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥

दे बीरा रघुनाथ पठाये। लंका जारि सिया सुधि लाये॥

लंका सो कोट समुद्र सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई॥

लंका जारि असुर संहारे। सियाराम जी के काज सँवारे॥

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे। आनि सजीवन प्राण उबारे॥

पैठि पताल तोरि जमकारे। अहिरावन की भुजा उखारे॥

बाये भुजा असुर दल मारे। दहिने भुजा संतजन तारे॥

सुर नर मुनि आरती उतारे। जय जय जय हनुमान उचारे॥

कंचन थार कपूर लौ छाई। आरती करत अंजना माई॥

जो हनुमान जी की आरती गावै। बसि बैकुंठ परमपद पावै॥

आगामी मुख्य कार्यक्रम

पर्व श्री वसन्तोत्सव

मार्च
शुक्रवार
2
बालाजी अर्चन प्रातः 7 बजे |
श्री कीर्तन प्रातः 8 बजे |
श्री वसन्तोत्सव प्रातः 9 बजे |
श्री सहभोज संगव 11:30 बजे

मुख्य समाचार

पर्व:- श्री प्रेतराज जयन्ती

03 फरवरी 2017

पर्व श्री प्रेतराज जयन्ती, श्री त्रिमूर्तिधाम में 2 फरवरी को बड़ी हर्षोलास के साथ मनाया गया। 


Download our Android AppDownload our Calendar in PDF for OfflineSubscribe to our Google Calendar for Complete Hindi Samvat CalendarClick here and feel to write us