भक्तों के ध्यानार्थ

भक्तों के ध्यानार्थ

  1. श्री त्रिमूर्तिधाम में प्रभु मौन की भाषा समझते हैं – अतएव भक्तों को मौन भाव से उनके समक्ष प्रार्थित होना चाहिए। जप वगैरा मन ही मन में करें।
  2. श्री त्रिमूर्तिधाम में अमर्यादित परिधान पहन कर आना व अमर्यादित आचरण निन्दनीय है।
  3. बाहर से लाई कोई भी वस्तु धाम में सेवनीय नहीं है।
  4. श्री बाला जी के समक्ष नमन करें – वहां न तो बैठें न ही खड़े हों – जो भी प्रार्थना वगैरा करनी हो श्री प्रेतराज दरबार में करें। श्री बालाजी एकाग्र चित भगत कि पुकार सुनते हैं – इस लिए उनके समक्ष अनावश्यक जय जय कार करना भी अशोभनीय है।

Download PDFs for offline reading - All PDFs

Download PDF for offline reading श्री गणेश जी के 108 नाम

Download PDF for offline reading महर्षि भृगुजी के 108 नाम

Download PDF for offline reading श्री विष्णुजी के 108 नाम

Download PDF for offline reading श्री शंकर जी के 108 नाम

Download PDF for offline reading श्री महामाया जी के 108 नाम

Download PDF for offline reading श्री हनुमान जी के 108 नाम

Download PDF for offline reading श्री सूर्यदेव जी के 108 नाम

Download PDF for offline reading श्री सूर्यदेव जी के 12 नाम